International Journal of Multidisciplinary Education and Research

International Journal of Multidisciplinary Education and Research


International Journal of Multidisciplinary Education and Research
International Journal of Multidisciplinary Education and Research
Vol. 6, Issue 3 (2021)

भारत रूस संबंध: आजादी से वर्तमान तक के घटनाक्रमों का एक विश्लेषण


डॉ. अनुराग पाण्डेय

आजादी से पहले से ही भारत एवं तत्कालीन सोवियत संघ के सम्बन्ध बहुत प्रगाढ़ रहे हैं। रूस ने भारत को कई क्षेत्रों में विकास करने में काफी मदद करि है, जिनमें सैनिक सहयोग, अस्त्र शस्त्र का व्यापर, आधुनिक तकनीक का आदान प्रदान, इत्यादि दोनों देशो के मध्य आपसी समझौते के महत्वपूर्ण बिंदु रहे हैं। जब सोवियत संघ का विघटन होता है तब भारत उसकी मदद के लिए आगे आता है। कुल मिलाकर दोनों देशो के मध्य सम्बन्ध विदेश नीति से आगे एक मित्र की तरह रहे है। हाल के वर्षों में भारत रूस सम्बन्ध में एक ठहराव आया है, भारतीय उपमहाद्वीप में चीन की विस्तारवादी नीति और पाकिस्तान के रवैये की वजह से भारत को अन्य देशों से निकटता बनाने की मजबूरी आई है, जिनमें भारत के अमेरिका एवं अन्य देशों से सम्बन्ध महत्वपूर्ण है, वहीं दूसरी ओर रूस पाकिस्तान और चीन के निकट जाने का प्रयास क्र रहा है। भारत रूस से अभी भी दोगुनी बड़ी अर्थव्यवस्था है और रूस खुद भारत जैसे खरीदार को खोना नहीं चाहेगा खासतोर से उस दौर में जब आत्मनिर्भर होता चीन रूस से हथियारों का आयात कम कर रहा है और कच्चे तेल के अतर्राष्ट्रीय बाजार में गिरते दाम रूस की आर्थिक स्थिति के लिए अच्छे संकेत नहीं दे रहे। वहीं दूसरी ओर भारत अपने नये मित्रों पर संकट की घड़ी में समर्थन का भरोसा नही कर सकता, रूस आज भी भारत के साथ ज्यादा मजबूती से खड़ा नजर आता है। अतः दोनों देशों को अपने इतिहास को देखते हुए एक साथ खड़े रहने की जरूरत है, आपसी विश्वास को और मजबूत करने की जरूरत है।
Download  |  Pages : 63-76
How to cite this article:
डॉ. अनुराग पाण्डेय. भारत रूस संबंध: आजादी से वर्तमान तक के घटनाक्रमों का एक विश्लेषण. International Journal of Multidisciplinary Education and Research, Volume 6, Issue 3, 2021, Pages 63-76
International Journal of Multidisciplinary Education and Research International Journal of Multidisciplinary Education and Research