International Journal of Multidisciplinary Education and Research

International Journal of Multidisciplinary Education and Research

ISSN: 2455-4588

Vol. 4, Issue 5 (2019)

मनोज दास की कहानियों में माटी की महक

Author(s): डाॅ. दयानिधि सा
Abstract:
’समुद्र की प्यास‘ मनोज दास के केन्द्रीय साहित्य अकादमी द्वारा पुरस्कृत कहानी संकलन-‘‘मनोज दास के कथा ओ काहाणी‘‘ की बहु चर्चित कहानी है। दूसरा विश्व युद्ध की पृष्ठभूमि पर सृजित यह कहानी अंग्रेज हुकूमत के समय में ग्रामीण नारियों की सामाजिक स्थिति का सफल चित्रांकन करती है। समुद्र किनारे बसे हुए एक गांव के एक गरीब परिवार की सामाजिक-आर्थिक स्थिति बयां करती यह कहानी नारी समाज के प्रति पुरुष समाज की अतृप्त वासनात्मक भूख को चरितार्थ करती है।
‘लक्ष्मी का अभिसार‘ मनोज दास की एक अलग ढंग की कहानी है। एक ग्राम बालिका का धर्मप्राण, ईश्वर विश्वासी हृदय अत्यन्त मार्मिकता से यहां शब्दांकित है। गांव के गरीब घराने के तथा अछूत जाति के लोग मन्दिर प्रवेश या ईश्वर दर्शन से किस तरह वंचित रह जाते हैं। उनके साथ सामान्य वर्ग तथा संभ्रान्त परिवार के लोग कैसे पशु बर्ताव करते हैं और उन दलितों को जहालत भरी जिन्दगी जीनी पछ़ती है, इस पर यह कहानी फोकस करती है। गांव देहात में आज भी ‘कास्टिज्म‘ का इतना वर्चस्व है कि अछूत या निम्न जाति के लोग मन्दिर प्रवेश से वर्जित होते हैं, ईश्वर के दर्शन दूर से ही करने पड़ते हैं। विश्व प्रसिद्ध जगन्नाथ मन्दिर में विदेशी इसाइयों को प्रवेश पर पाबन्दी लगाना हमारी इसी जातिवादी संकीर्ण सोच की ड्रामेबाजी है।
‘जलमग्न द्वीप‘ या ‘जलमग्न टापू‘ मनोज दास द्वारा रचित एक समस्या प्रधान कहानी है। उत्तम पुरुष शैली में रचित यह कहानी हमें अपनी जन्म माटी के प्रति न केवल आकर्षण पैदा करती है, बल्कि उसके लिए मर मिटने का जज्बा पैदा करती है। मनोज दास ने अपने निजी जीवन की प्रत्यक्ष अनुभूतियों को यहां कहानी की शकल दी है। लेखक का अपनी जम्नभूमि के प्रति असीम प्यार यहां उमड़ पड़ा है। आजादी के बाद आधुनिक भारत-निर्माण के सपनों को साकार करती विराट बांध परियोजना से उनके गांव समेत पूरे इलाके के कई गांव जलमग्न हो गए, डूब गए। वहां के लोगों को अपनी मग्न माटी छोड़कर दूसरी जगहों पे विस्थापित होना पड़ा। पुनर्विस्थिापन का सन्ताप वहां के लोगों को झेलना पड़ा। खुद लेखक मनोज दास अपने गांव, अपनी माटी से बिछड़ने, दूर होने के दुख-सन्ताप से ग्रसित दिखाई पड़ते हैं।
Pages: 110-113  |  19 Views  8 Downloads
Journals List Click Here Research Journals Research Journals