International Journal of Multidisciplinary Education and Research

International Journal of Multidisciplinary Education and Research

ISSN: 2455-4588

Vol. 1, Issue 3 (2016)

सती प्रथा एवं जौहर परम्पराओं में झुलसती नारी

Author(s): अर्चना मिश्रा
Abstract: मध्य कालीन भारत का दायरा काफी कुछ विस्तृत है। गुप्त एवं गुप्तोत्तर काल के समाप्त होते ही मध्यकाल या यूँ कहें हिन्दू मध्य काल या राजपूत काल की शुरुआत हो जाती है। इस राजपूत काल में कुछ ऐसी परम्परायें प्रवर्तित हुई, जो जीवन से जुड़ गई। सती परम्परा व जौहर परम्परा उनमें से प्रमुख हैं। अतीत काल में सती प्रथा के जोर पकड़ने के पीछे समाज में विधवा की स्थिति में गिरावट थी। धर्मशास्त्रों में भी सती प्रथा के विषय में उल्लेख इसके सामाजिक मान्यता तथा स्वीकृति का कुछ संकेत है। सती प्रथा को समाज में सामान्य रूप से प्रचलित नहीं माना जा सकता है। राजपूत जब युद्ध में बलिदान के लिये कूद पड़ते थे तब उस दुर्ग की सभी औरतें अग्नि-कुण्ड में कूदकर जौहर कर भष्म हो जाती थीं। इस परम्परा का अनुकरण राजपूतानियाँ ही नहीं उनकी परिचारिकायें भी करती थीं। हजारों-हजार स्त्रियाँ इस प्रकार जौहर में जिन्दा जलकर राख हो जाती थीं।
Pages: 66-71  |  1566 Views  596 Downloads
Journals List Click Here Research Journals Research Journals